सामान्य उपयोग के उपविभाग (List of Commonly Used Subdivisions)

सामान्य उपयोग के उपविभाग (List of Commonly Used Subdivisions)

व्यक्तियों के नाम या पद Presidents-United States (किसी भी देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री या शासक के लिये) Shakespeare, William, 1564-1616 (किसी भी साहित्य के सम्मानित लेखक के लिये) विशेष लोगों के नाम Indians of North America (भाषाई परिवार अथवा लोगों के नाम के उपविभाजनों हेतु) स्थान United States; Ohio; Chicago (III.) (भौगोलिक स्थानों देश, राज्य एवं शहर लिये प्रयुक्त) भाषा एवं साहित्य English Language (किसी भी भाषा के लिये) English Literature (किसी भी साहित्य के लिये) महायुद्धों के लिये
World War 1939- 1945 (किसी भी युद्ध या महायुद्ध के लिये)
जटिल विषयों के मानकीकृत विषय शीर्षक बनाने हेतु कई सामान्य उपविभागों प्रयोग किया जाता है । सर्वाधिक प्रयोग में आने वाले उपविभागों के उपयुक्त वर्णित मुख्य शीर्षकों में सम्मिलित किया गया । इनके अतिरिक्त प्रयोग में आने वाले सामान्य उपविभागों की तालिका सीयर्स लिस्ट के पृष्ठ xli-xliii पर दी गई है । प्रयोग किसी भी विषय शीर्षक के साथ आवश्यकतानुसार किया जा सकता है । उदाहरणार्थ
Mathematics-Periodicals Physics-Study and teaching
Library Science-History

7.2.3 शीर्षक (Headings)

इस सूची में शीर्षक परम्परागत रूप मुद्रित किये गये हैं अर्थात् प्रयोग में आने वाले शीर्षक मोटे काले अक्षरों (Black Face type) में तथा समानार्थक शीर्षक (Synonyms) जिनका की प्रयोग शीर्षक के रूप में नहीं किया जाता है, हल्की स्याही (Light face) में मुद्रित किये गये | इस विषय सूची को अधिक विस्तृत बनाने के लिये इसमें इन पांच संक्षेपणों का प्रयोग किया गया है जिनके पूर्ण शब्द निम्नलिखित है –
| UF=Used for के लिये प्रयुक्त SA=See also इन्हें भी देखिये BT=Broader term व्यापक पद NT=Narrower term संकीर्ण पद RT=Related term सम्बन्धित पद उदाहरणार्थ Trade Unions, USE Labor unions
Labor unions (May Subdiv. geog.) 331.88. UF Labor organization
Organized labor Trade united
Union, Labor SA Types of unions and names of Individual Labor unions, to be added as needed. BT Cooperation
Industrial relations Labor
Socialism
Societies NT Industrial arbitration
Injunctions Librarians’ unions Open and closed shop
United Steelworkers of America RT Collective bargaining
Labor movement Strikes
विषय शीर्षक के चयन में निम्नलिखित बातों का ध्यान रखा जाना चाहिये: 1. विशिष्ट प्रविष्टि (Specific Entry). सूचि में से विषय शीर्षक चयन करते समय अत्यधिक विशिष्ट शब्द अर्थात् उस विषय शीर्षक का चयन करें जो ग्रन्थ की विषय वस्तु की परिशुद्धता तथा सुनिश्चितता का प्रतिनिधित्व कर सके ।
2. सामान्य प्रचलित शब्द : वैज्ञानिक एवं तकनीकी नामों की अपेक्षा सामान्य या प्रचलित नामों का ही प्रयोग करना चाहिए ।
3. एकरूपता (Uniformity) : समानार्थक शब्द (Synonyms) की अवस्था में समरूप (Uniform) शब्द का वरण करना चहिये ।।
4. संगतता (Consistency) : एक बार वरण किये गये विषय शीर्षक को संगतता पूर्वक (Consistently) प्रयोग करना चहिये ।

7.2.4 एकाकी संज्ञा (Single Noun)

विषय शीर्षकों का सबसे सरल रूप उनका एकांकी संज्ञा के रूप में होना है । उदाहरणार्थ, Agriculture, Education, Religion आदि । इसी प्रकार मूर्त विषय (Concert Subject) जैसे Apple, Chair , Pottery, Trees, Violin आदि हैं । यदि किसी विषय शीर्षक के समानार्थक शब्द जैसे Pottery ceramics, Chinaware, Crockery, Dishes आदि हों तो उस अवस्था में समानार्थक शब्दों से निर्देश बनाये जाते हैं । यदि कोई पद दविअर्थी हो जैसे Bridge (Civil engineering & game) तो उन्हें वृत्ताकार कोष्ठक में जोड़कर स्पष्ट किया जाता है ।। 7.2.5. वाक्यांश रूप में विषय शीर्षक (Phrase Heading)
कुछ विषय दो ज्ञान क्षेत्रों से सम्बन्धित होते हैं जिन्हें मिश्रित वाक्यांश द्वारा स्पष्ट किया जा सकता है: उदाहरणार्थ: Bible as Literature
Freedom of Information
7.2.6. मिश्रित शीर्षक (Compound Heading)
जो संज्ञायें एवं द्वारा जुड़ी होती हैं तथा जिन्हें सामान्यत: वैचारिक रूप से अलग किया जा सकता हो तो उन्हें एक साथ प्रयुक्त किया जाता है । उदाहरणार्थ: Bow and arrow
Cities and towns Publishers and publishing एवं दो विभिन्न विषय जो एक दूसरे के साथ जोड़ कर अध्ययन किये जाते हैं । उदाहरणार्थ: Religion and science
Television and children
एवं दो विभिन्न विषय जो एक दूसरे से पूर्णतया अलग होने के बावजूद भी उनका अध्ययन एक साथ किया जाता है। उदाहरणार्थ : Belief and doubt
Good and evil Joy and sorrow
उपर्युक्त सभी का विषय शीर्षक सामान्य तया अकारादि क्रम में निर्मित किया है । विपस्र्थ क्रम में सदैव एक निर्देश बनाया जाता है ।

7.2.7 विषय शीर्षक के साथ दशमलव वर्गीकरण का प्रयोग (Use of DC class Number

प्रारम्भ से ही सीयर्स लिस्ट में विषय शीर्षकों के साथ दशमलव वर्गीकरण के वर्गीक का प्रयोग किया जा रहा है । 9वें व 10 वें संस्करण में इसे बन्द कर दिया गया था । छोटे ग्रन्थालयों की पुन: मांग पर 11वें संस्करण से इन वर्गीकों का प्रयोग पुन: प्रारम्भ कर दिया गया । 16वें संस्करण में एब्रिज्ड डयूई डेसीमल क्लासीफिकेशन एण्ड रिलेटिव इन्डेक्स, संस्करण 13 जो 1997 में प्रकाशित हुआ है के वर्गीकों का प्रयोग किया गया है । 7.2.8 क्षेत्र टिप्पणी (Scope Note) इस सूची में कुछ शीर्षकों के समझ क्षेत्र टिप्पणी दी रहती है जिनके द्वारा प्रयोगकर्ता को विषय शीर्षक के बारे में स्पष्टता हो जाती है और उन्हें चयन में सुविधा रहती है । उदाहरणार्थ सीयर्स लिस्ट के पृष्ठ 2 पर Abnormal psychology 616.89 के नीचे निम्नलिखित क्षेत्र टिप्पणी दी गई है।
Use of systematic descriptions of mental disorders. Materials on clinical aspects of mental disorders, including therapy, are entered under Psychiatry. Popular materials on regional of social aspects of mental disorders are entered under Mental illness.

7.2.9 भौगोलिक उपविभाजन (Geographical Subdivision)

जिन शीर्षकों के समक्ष भौगोलिक रूप से बांटिये मुद्रित रहता है उन्हें देश, राज्य, शहर आदि किसी भी भौगोलिक इकाई तक विभाजित किया जा सकता है । परन्तु जिन शीर्षकों के आगे भौगोलिक रूप में विभाजित कीजिये का निर्देश न दिया गया हो और सूचीकार विषय को भौगोलिक रूप से विभाजन की आवश्यकता महसूस करे तो विषयों को भौगोलिक रूप से. विभाजित किया जा सकता है । सीयर्स लिस्ट में यह निर्देश इस प्रकार दिया रहता है
Academic freedom (May subdiv.geog.) 371.1; 378.1 7.2.10 देखिये निर्देश (References)
| विषय शीर्षक निर्धारण के पश्चात् यह ध्यान रखा जाना चाहिये की पाठकों को इस शीर्षक को निर्देशों के अभाव से छूने में कोई कठिनाई न हो । निर्देश पाठकों का ध्यान उस शीर्षक विस्तृत एवं सम्बन्धित पद से जिसे प्रविष्टि का शीर्षक नहीं बनाया गया हो से निर्मित शीर्षक की ओर आकर्षित करता है ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *