Category: Notes

इलैक्ट्रॉनिकी [P1] ‘ब्रॉडकास्टिंग’ एवं ‘इलैक्ट्रानिकी’ 1

इलैक्ट्रॉनिकी [P1] ‘ब्रॉडकास्टिंग’ एवं ‘इलैक्ट्रानिकी’

इलैक्ट्रॉनिकी [P1] ‘ब्रॉडकास्टिंग’ एवं ‘इलैक्ट्रानिकी’  डॉ.एस.आर. रंगनाथन ने इस सिद्धान्त का प्रतिपादन इसीलिये किया था कि किसी विषय से जुड़े ऐसे दो पक्ष जिनका सम्बन्ध गाय-बछड़ा जैसे लगे, उसे उसी क्रम में व्यवस्थित करना...

अन्तिम आवर्तन में पक्षक्रम की अभिधारणा (Postulate of facet Sequence within last round) 0

अन्तिम आवर्तन में पक्षक्रम की अभिधारणा (Postulate of facet Sequence within last round)

अन्तिम आवर्तन में पक्षक्रम की अभिधारणा (Postulate of facet Sequence within last round) यहाँ कपास [P] व्यक्तित्व पक्ष है भूमि [M] पदार्थ पक्ष है, और तैयारी [E] ऊर्जा पक्ष है। तीनों पक्षों का क्रम...

पदार्थ विधि के उदाहरणों को मुख्य वर्ग 0

पदार्थ विधि के उदाहरणों को मुख्य वर्ग

पदार्थ विधि के उदाहरणों को मुख्य वर्ग  इतना ही नहीं, मूलभूत श्रेणी [M] पदार्थ में भी अन्य कई परिवर्तन किये गये है। इन्हें क्रमशःपदार्थ गुण Matter Property [MP] पदार्थ सामग्री Matter Material [MMt] पदार्थ...

शिक्षा, अनुसंधान, लेखन एवं पठन-पाठन में जनमानस की असाधारण अभिरूचि 0

शिक्षा, अनुसंधान, लेखन एवं पठन-पाठन में जनमानस की असाधारण अभिरूचि

शिक्षा, अनुसंधान, लेखन एवं पठन-पाठन में जनमानस की असाधारण अभिरूचि इसका प्रमुख कारण शिक्षा, अनुसंधान, लेखन एवं पठन-पाठन में जनमानस की असाधारण अभिरूचि रहा है । इस बीच विभिन्न स्तरों पर अनेक शिक्षण संस्थाओं,...

Who were the Hunas? Discuss the part played by them in Indian history. 0

Who were the Hunas? Discuss the part played by them in Indian history.

Who were the Hunas? Discuss the part played by them in Indian history. चीनी यात्री शृंगयुन के अनुसार “गांधार का राजा अत्यन्त क्रूर स्वभाव का था । वह सन् 517 ई. से 520 ई....

6. पुस्तक-संग्रह के सत्यापन कार्य को सफल एवं सुविधाजनक बनाना 0

6. पुस्तक-संग्रह के सत्यापन कार्य को सफल एवं सुविधाजनक बनाना

6. पुस्तक-संग्रह के सत्यापन कार्य को सफल एवं सुविधाजनक बनाना  । प्रायः पुस्तकों में पुस्तक-संग्रह का वार्षिक सत्यापन किया जाता है । वर्गीकृत क्रम में व्यवस्थित पुस्तकों की फलक सूची-पत्रकों की सहायता से बड़ी...

फाह्यान तथा ह्वेनसांग का वर्णन The Account of Fahien and hyanchwang 0

फाह्यान तथा ह्वेनसांग का वर्णन The Account of Fahien and hyanchwang

फाह्यान तथा ह्वेनसांग का वर्णन The Account of Fahien and hyanchwang – हेनसांग का प्रारम्भिक जीवन-  युवान च्वांग का भारत आगमन हर्ष के शासनकाल की ही नहीं वरन् भारतीय इतिहास की अपूर्व घटना है।...

हर्ष का शासक, सैनिक नेता तथा कला एवं विद्याओं के संरक्षक के रूप में मूल्यांकन कीजिए। 0

हर्ष का शासक, सैनिक नेता तथा कला एवं विद्याओं के संरक्षक के रूप में मूल्यांकन कीजिए।

हर्ष का शासक, सैनिक नेता तथा कला एवं विद्याओं के संरक्षक के रूप में मूल्यांकन कीजिए। Form an estimate of Harsha as a ruler, Military leader and patron of art and learning.हर्षवर्धन ने भी...

प्राचीन भारतीय इतिहास में हर्ष के स्थान का मूल्यांकन कीजिए। 0

प्राचीन भारतीय इतिहास में हर्ष के स्थान का मूल्यांकन कीजिए।

 प्राचीन भारतीय इतिहास में हर्ष के स्थान का मूल्यांकन कीजिए।   Assess Harsha’s Position in Ancient Indian History. (5) बौद्ध धर्म का महान् प्रचारक –  आरम्भ में अशोक की तरह वह भी पहले हिन्दू 5...

Describe fully the conquests of Kanishaka I 0

Describe fully the conquests of Kanishaka I

प्रश्न 41. कनिष्क प्रथम की विजयों का सविस्तार वर्णन कीजिए।Describe fully the conquests of Kanishaka I उत्तर- सम्भवतः 78 ई. में उसने सत्ता अधिग्रहण की कनिष्क भारत का ही नहीं। विश्व के महान् सम्राटों...